गुरुग्राम विश्वविद्यालय में मनाया गया विश्व फिजियोथेरेपी दिवस

53

World Physiotherapy Day

 

गुरुग्राम, 10 सितम्बर 2019 – विश्व फिजियोथेरेपी दिवस के अवसर पर गुरुग्राम विश्वविद्यालय में कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में गुरुग्राम विश्वविद्यालय के माननीय कुलपति डॉ मार्कण्डेय आहूजा जी बतौर मुख्य अतिथि शामिल रहे। धर्मशीला नारायणा हॉस्पिटल, गुरुग्राम के चीफ फिजियोथेरेपिस्ट डॉ जया प्रकाश जयावेलू भी मुख्यअतिथि के तौर पर कार्यक्रम में मौजूद रहे। कार्यक्रम की शुरूआत दीप प्रवज्जलन के साथ हुई। कार्यक्रम में फीजियोथेरेपी विभाग के सभी छात्र-छात्राएं मौजूद रहे।

 

World Physiotherapy Day

 

फिजियोथेरेपिस्ट डॉ जया प्रकाश जयावेलू ने छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि एक फिजियोथेरेपिस्ट के तौर पर काम करने के लिये सबसे जरूरी है कि आपका एटिट्यूड कैसा है क्योंकि सबसे महत्वपूर्ण यही है कि आप अपने काम के प्रति दृष्टिकोण कैसा रखते है। आपको ना सिर्फ फिजियोथेरेपी की बल्कि इससे जूड़ी सभी शाखाओं की जानकारी होना जरूरी है। तभी आप अपने मरीज को भरोसा दिला पाओगे कि आप उनके लिये क्यों बेहतर है। साथ ही उन्होंने छात्रों की रूचि देखते हुए अपने अस्पताल में विजिट के लिये भी कहा। साथ ही छात्रों के बेहतर भविष्य की कामना करते हुए उन्हें इंटर्नशिप के लिये भी ऑफर किया।

 

World Physiotherapy Day

 

वहीं, माननीय कुलपति डॉ मार्कण्डेय आहूजा जी ने कहा कि फिजियो अपने आप में ही जीवन की परिभाषा है आप अपने काम के प्रति ईमानदार रहे, काम करने का जूनुन हो तभी आपको सफलता हासिल होगी। वैसे लोग समझते हैं कि दवा की गोली खा लेने से दर्द छू मंतर हो जाएगा लेकिन ऐसा होता नहीं है। कुछ देर के आराम के बाद फिर दवा पर आप निर्भर हो जाते हैं जोकि हमारे शरीर के लिए सही नहीं है। दरअसल हमारे शरीर की क्षमता में ही शरीर का इलाज छुपा है। इसे फिजियोथेरेपी पद्धति ने पहचाना और लोगों का इलाज बिना दवा-गोली के होना शुरू हुआ। डॉ मार्कण्डेय आहूजा जी ने कहा कि जब शरीर की सहनशीलता नहीं रहती है तो वह तरह-तरह की बीमारियों व दर्द की चपेट में आ जाता है। फिजियोथेरेपी को अपनी जिंदगी का हिस्सा बनाकर दवाइयों पर निर्भरता कम करके हम स्वस्थ रह सकते हैं। और हम उम्मीद करते हैं कि आप सभी भविष्य के बेहतर फिजियोथेरेपिस्ट साबित होंगे। इस दौरान छात्रों ने पेंटिंग प्रदर्शनी भी लगाई। जिसमें फिजियोथेरेपी के महत्व को दर्शाया गया। पेंटिंग प्रतियोगिता में पहला स्थान बीपीटी द्वितीय वर्ष के शुभम कटारिया ने हासिल किया।

 

World Physiotherapy Day

 

जबकि दूसरे और तीसरे नंबर पर अज़म अहमद और पूजा रेवलिया रहे। अंत में माननीय कुलपति डॉ मार्कण्डेय आहूजा जी ने विशेष अतिथि डॉ जया प्रकाश को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया और पेंटिंग प्रतियोगिता के विजेता छात्रों को मेडल पहनाकर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम का आयोजन फिजियोथेरेपी विभाग की ओर से किया गया। इस दौरान फिजियोथेरेपी विभाग के डीन डॉ धीरेंद्र कौशिक, डिप्टी रजिस्ट्रार डॉ अमन वशिष्ठ, डॉ अपर्णा, डॉ बदरी मौजूद रहे।

Loading...