गब्बर साहब गुरुग्राम नगर निगम में अभी तक क्यों नहीं आए ?

108

 

गुरुग्राम, 27 फरवरी 2020 – साइबर सिटी गुरुग्राम का नगर निगम विभाग इस समय सुर्खियों में बना हुआ है वह इसलिए क्योंकि इसके खजाने में सालाना 1700 करोड़ रुपए का बजट है और इस बजट में शहर के विकास कार्य के नाम पर लूट चल रही है । यह हम नहीं कह रहे बल्कि खुद नगर निगम के ठेकेदार के मुंह से उनकी ही जुबानी सुनिए।

दरअसल इको ग्रीन की तर्ज पर ही एक अन्य कंपनी को हॉर्टिकल्चर का टेंडर दिया जा रहा है, जिसका विरोध नगर निगम के ठेकेदार लगातार कर रहे है और इसी विरोध के चलते ठेकेदारों की एक बैठक गुरुग्राम के सेक्टर 4 हुड्डा जिमखाना क्लब में चल रही थी। लेकिन जिस कंपनी को यह टेंडर लेना है उसे यह सब रास नहीं आ रहा था। ऐसे में ठेकेदारों का आरोप है कि इस कंपनी ने बदमाशों को बैठक में भेजकर ठेकेदारों पर हमला कराया जिससे कि ठेकेदार डर जाए और शहर में हॉर्टिकल्चर का ठेका उसी कंपनी को दे दिया जाए । वही ठेकेदारों की माने तो यह करोड़ो का घोटाला है और इस घोटाले में बड़े अधिकारियों का हाथ है ।

हालांकि जब से नगर निगम विभाग गब्बर यानी अनिल विज के पास आया है तब से सभी यह आस लगाए बैठे हैं कि अब नगर निगम में भ्रष्टाचार नहीं होगा लेकिन नगर निगम के ठेकेदार अब गब्बर साहब से पूछ रहे हैं कि आखिरकार गब्बर साहब गुरुग्राम नगर निगम का हाल क्यों नहीं जानने आए। जबकि हरियाणा में सबसे ज्यादा राजस्व देने वाला नगर निगम गुरुग्राम है और इसमें भ्रष्टाचार का काला चिट्ठा भी काफी लंबा है। इतना ही नहीं ठेकेदारों ने यह भी कहा कि टेंडर के नाम पर गुरुग्राम नगर निगम में करोड़ों का भ्रष्टाचार होता है लेकिन विज साहब को और मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को अधिकारी जैसा समझाते है वैसे ही विज साहब और मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर साहब समझ जाते हैं।

हालांकि ठेकेदारों पर हुए हमले को लेकर गुरुग्राम पुलिस शिकायत मिलने के बाद जांच में जुट गई है और पुलिस का कहना है कि जल्द ही जांच कर आगे की कार्यवाही की जाएगी।

इतना ही नहीं गुरुग्राम नगर निगम ने शहर की सफाई व्यवस्था के लिए एक इको ग्रीन नामक कंपनी को भी 22 साल का ठेका दिया हुआ है। जिसका विरोध लगातार शहर के सभी पार्षद कर चुके हैं, लेकिन इसका कोई असर देखने को नहीं मिला और अब उसी तर्ज पर ही यह टेंडर दिया जा रहा है ऐसे में देखना होगा कि गब्बर साहब के विभाग में भ्र्ष्टाचार पर लगाम कैसे रुकेगी।