उपाध्याय जी ने मानवता के विकास के लिए दिया अंत्योदय का सिद्धांत : शर्मा

179

Sharma

 

गुरुग्राम, 25 सितम्बर 2019 – जनसंघ के संस्थापक पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर भाजपाईयों ने उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। भाजपा ने इस बार उनकी जयंती मंडल और बूथ स्तर पर आयोजित करने की तैयारी कर रखी थी। इसी कड़ी में शीतला मंडल में भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं हरियाणा डेयरी विकास सहकारी प्रसंघ के चेयरमैन जीएल शर्मा एवं पार्टी के दूसरे कार्यकर्ताओं ने उनके चित्र पर पुष्प अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि भेंट की।

जीएल शर्मा ने उन्हें शत शत नमन करते हुए कहा कि उन्होंने दुनिया के सामने एकात्म मानववाद का दर्शन रखा। मानवता की पूर्णता और समग्र विकास के लिए अंत्योदय का सिद्धांत दिया। शर्मा ने कहा कि पंडित दीनदयाल उपाध्याय प्रखर राष्ट्रवादी थे। वे हमारे पथ प्रदर्शक हैं। उनके जीवन पर प्रकाश डालते हुए शर्मा ने कहा कि लखनऊ में पंडित दीन दयाल उपाध्याय ने राष्ट्र धर्म प्रकाशन की स्थापना की। इसके बाद उन्होंने वर्तमान में आरएसएस का मुखपत्र पांचजन्य शुरू किया और इसके बाद स्वदेश नाम से एक पत्रिका का प्रकाशन आरंभ किया।

Sharma

 

1950 में जब श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने नेहरू की कैबिनेट से इस्तीफा दिया, तब 21 सितंबर 1951 को पंडित दीन दयाल उपाध्याय ने यूपी में भारतीय जनसंघ की स्थापना की थी। पंडित दीन दयाल उपाध्याय ने डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी से मिलकर 21 अक्टूबर 1951 को जनसंघ का राष्ट्रीय सम्मेलन आयोजित किया। 1968 में वह जनसंघ के अध्यक्ष बने। इसके कुछ ही समय में 11 फरवरी 1968 को उनका देहांत हो गया। आज भाजपा उन्हीं के दिखाए मार्ग पर आगे बढ़ रही है। शर्मा ने कहा कि हर भारतीय के लिए यह गर्व की बात है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी को गेट्स फाउंडेशन द्वारा ‘ग्लोबल गोलकीपर अवार्ड’ से सम्मानित किया गया है। यह भारत को स्वच्छता और स्वच्छता में सुधार करने में मिली सफलता के लिए एक बड़ी मान्यता है। प्रधानमंत्री के प्रयासों ने स्वच्छ भारत को एक आंदोलन बनाया।

इस मौके पर शीतला मंडल के अध्यक्ष सीताराम सिंघल, उपाध्यक्ष पीडी भारद्वाज, राजेश दत्ता, अर्जुन मंडलाध्यक्ष महेश वशिष्ठ, पूर्वांचल प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष धमेंद्र मिश्रा, एससी मोर्चा के महामंत्री ईशू बाल्मिकी, हेमराज शर्मा, त्रिवेणी राघव, सुधीर कल्सन, पारस बक्शी, सुंदर वर्मा सहित बड़ी संख्या में कार्यकर्ता मौजूद थे।