अब तक 35 गुमशुदा लोगों को उनके परिवारों से मिलवा चुके हैं राजेन्द्र इन्सां

134

rajender insan

 

डेरा सच्चा सौदा के पूज्य संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां द्वारा चलाए गए मानवता भलाई के कार्यों पर चलते हुए उनके अनुयायी समाजहित के लिए अनेकों सराहनीय कार्य कर रहे हैं।

पूज्य गुरू जी की प्रेरणा पर चलते हुए स्थानीय ब्लॉक केसरीसिंहपुर के सेवादार भी इन कार्यों के लिए दिन रात एक कर रहे हैं। केसरीसिंहपुर मण्डी में घूम रहे मंदबुद्धि लोगों का ईलाज करवाकर उनके घर पहुंचाने का कार्य डेरा अनुयायियों द्वारा लगातार जारी है। बिहार के नालंदा जिला के शहर फतुआ के एक गांव का 22 वर्षीय युवक रूलद कुमार पुत्र ललन पासवान 23 जुलाई को कस्बे के गांव 7 एस में ग्रामीणों को संदिग्ध अवस्था में मिला तो सीमा क्षेत्र के गांव 7 एस के निवासियों ने चेक पोस्ट पर सूचना दी। मौके पर पहुंचे बीएसएफ के सीआईडी ब्रांच के अधिकारी सुरेंद्र सिंह ने उस युवक को अपनी कस्टडी में लेकर चेक पोस्ट पर पूछताछ की।

कोई संदिग्ध मामला नजर न आता देखकर उन्होंने उसे केसरीसिंहपुर पुलिस थाना के सुपुर्द कर दिया। थानाधिकारी सुरेंद्र पूनिया ने शाह सतनाम जी ग्रीन एस वेलफेयर फोर्स विंग के जिम्मेवार भाई राजेंद्र इन्सां से संपर्क कर युवक को उसके सुपुर्द कर दिया।

शाह सतनाम जी ग्रीन एस वेलफेयर फोर्स विंग के अन्य लोगों के साथ मिलकर राजेंद्र इन्सां ने उस युवक को उसके मां-बाप से मिलवाया। युवक से मिलते ही मां-बाप की आंखों में आंसू भर आए। इस सराहनीय कार्य के लिए मंदबुद्धि के माता-पिता ने डेरा सच्चा सौदा के पूज्य संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां द्वारा चलाए गए मानवता भलाई के कार्यों की प्रशंसा की व राजेन्द्र इन्सां का धन्यवाद किया। वहीं थानाधिकारी ने भी इस कार्य की प्रशंसा की।

आपको बता दें कि राजेन्द्र इन्सां इससे पहले कस्बे में विभिन्न प्रदेशों से भटकते यहां आए 35 लोगों को उनके परिवारों से मिलवा चुके हैं। इस युवक को वह अपने घर ले गए व एक सप्ताह तक उसे अपने घर खाना खिलाया और उससे पूछताछ भी जारी रखी, लेकिन कोई पता न मिलने पर उन्होंने बिहार में ई-मित्रा के जरिये आधार कार्ड व अन्य सूत्रों से उस युवक का पता लगा लिया व उसके मां-बाप को सूचित कर दिया गया।

Loading...