अब पार्षद के पति पर हुई जबरन वसूली की एफआईआर

19

 

गुरुग्राम, 13 फरवरी 2020 – साइबर सिटी के वार्ड नं 32 की पार्षद के पति पर अब जबरन वसूली के आरोप लगे है। मोहित यादव नामक व्यक्ति ने पुलिस में शिकायत दर्ज करवाते हुए कहा कि पार्षद के पति द्वारा उनके एरिया में घरों से कचरा उठाने की एवज में ढाई लाख रुपये प्रति माह हिस्सेदारी के रूप में मांगा जा रहा है।

इस मामले पर इको ग्रीन कम्पनी ने पल्ला झाड़ते हुए कहा कि उक्त ठेकेदार से हमारी कम्पनी का कोई एग्रीमेंट नही है। शिकायत में अभिषेक गुलाटी नामक एक और व्यक्ति का नाम है। अभिषेक गुलाटी ने आरोपों को नकारते हुए कहा कि यह उनके खिलाफ एक साजिश है। ध्यान देने योग्य बात है की ये सभी लोग सुशासन का दम भरने वाली भाजपा के सक्रिय सदस्य भी हैं। लेकिन इस मामले पर विधायक व आरोपीगण मीडिया से बचते नजर आ रहे है। खास बात ये भी है कि इस मामले में जिन व्यक्तियों के नाम है। वे सांसद व विधायक के करीबी बताए जा रहे हैं।

इसीलिए शायद पुलिस को भी कार्यवाही करने में परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। लेकिन सवाल ये है आखिर कब तक साइबर सिटी की जनता प्रदेश में सबसे ज्यादा राजस्व देने के बाद भी बेहाल सड़कें, ट्रैफिक जाम, लच्चर स्वास्थ्य और स्वच्छता सुविधाओं को दंश झेलती रहेंगी और कब ऐसे जनप्रतिनिधियों पर लगाम कस पाएगी। दुविधा सिर्फ ये नही की मामला सिर्फ सत्तापक्ष का है।

दुविधा ये है कि मामला संज्ञान में आते ही एक कांग्रेसी नेता ने प्रेस कांफ्रेंस के माध्यम से मामले को उजागर करने के लिए सभी पत्रकारों को आमंत्रित तो किया। लेकिन एक ही रात में न जाने को सी घुट्टी मिली में प्रेस वार्ता भी केंसिल हो गयी और भ्र्ष्टाचार के विरोध में उठने वाली आवाज भी।