बंधवाड़ी की पहाडिय़ों में रोजाना पहुंच रहा सैकड़ों टन कूड़ा

56

Vashishth Goyal

 

गुरुग्राम, 9 मई 2020 – गांव बंधवाड़ी के लोग इन दिनों पहाड़ी में फेंके जा रहे हजारों टन कूड़े को लेकर परेशान नजर आ रहे हैं। दरअसल गांव वालों को डर है कि कहीं गांव में रहने वाले हजारों लोग यहां फेंके जा रहे कूड़े से संक्रमित ना हो जाएं। गांव वालों का आरोप है कि यहां कूड़ा रीसायकल का काम भी होना है, लेकिन अभी कर्मचारियों की भारी कमी है, जिस वजह से कूड़ा निस्तारण का कार्य यहां नहीं हो पा रहा है। गांव की पहाड़ी में लगातार कूड़े का ढेर पहाड़ी का रूप ले रहा है, जिससे उठने वाली बदबू और गंदगी से गांव के लोगों में संक्रमण का खतरा बढ़ गया है। गांव के लोगों ने इस मामले को नव जन चेतना मंच के सामने रखा।

मंच के संयोजक वशिष्ठ कुमार गोयल ने इस मामले को बड़े स्तर पर उठाते हुए कहा कि मामला काफी संवेदनशील और गंभीर है, जिसपर सरकार और प्रशासन को तत्काल ध्यान देना होगा। देश में जिस तरह से कोरोना वायरस का प्रकोप फैल रहा है, इस परिस्थिति में साफ सफाई पर विशेष ध्यान देना होगा, जिसको लेकर जो भी कंपनी यहां काम कर रही है उसे गांव बंधवाड़ी के लोगों को इंश्योर करना होगा कि यहां कूड़े से या फिर कूड़े का जो लीचेड जमीन के अंदर जा रहा है और जमीन के पानी के अंदर मिल रहा है, उससे यहां रह रहे लोगों को कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा।

 

bandhwari

गोयल ने कहा कि सरकार हजारों करोड़ रुपए शहर के कूड़ा निस्तारण पर पानी की तरह बहा रही है लेकिन जो पैसा सही मायने में खर्च होना चाहिए वह दिखाई नहीं दे रहा है। ईकोग्रीन कंपनी यहां काम कर रही है इस कंपनी पर कई बार सवाल उठे हैं और मुख्यमंत्री तक लापरवाही पाए जाने पर इस कंपनी के खिलाफ जुर्माने के तौर पर कार्रवाई कर चुके हैं, लिहाजा एक बार फिर से कोरोना महामारी के बीच इस कंपनी की लापरवाही हैरान और परेशान करने वाली समस्या पैदा कर रही है। उससे निपटने के लिए सरकार तत्काल प्रभाव से कंपनी के ऊपर कार्रवाई करनी होगी, जिससे कि कंपनी यहां साफ.सफाई पर विशेष ध्यान रख सकें। उन्होंने सीधे तौर पर मुख्यमंत्री मनोहर लाल से मांग की है कि बंधवाड़ी में बन रहे कूड़े के पहाड़ पर विशेष ध्यान देते हुए यहां के लोगों स्वास्थ्य संबंधी सुरक्षा पर विचार करें, जिससे कि यहां के लोग स्वस्थ रूप से अपना जीवन यापन कर सकें।