‘अनेकता में एकता’ भारत की विशेषता को उजागर करते हुए सम्मान दिवस का हुआ आयोजन

15

Honor Day

 

गुरुग्राम, 1 दिसंबर 2019 – सलवान एजुकेशन ट्रस्ट द्वारा आयोजित सलवान पब्लिक स्कूल, गुरुग्राम सैक्टर 15 पार्ट 2 में तेरवें ‘सम्मान दिवस’ का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि सम्माननीय लेफ्टिनेंट जनरल एम.एम नरावने, पीवीएसएम, एवीएसएम, एसएम, वीएसएम, एडीसी सेना के कर्मचारियों के प्रमुख रहे जिनके कर कमलों से वीरता पुरस्कार विजेताओं और “वीर नारियों” को सम्मानित किया गया। पदम श्री सम्मान से सम्मानित मेजर जनरल एस. के. राजदान, वीसएम (कीर्ति चक्र-ऑपरेशन रक्षक), श्रीमती जमुना टुडू पर्यावरण के क्षेत्र में झारखंड से, श्रीमती राजकुमारी देवी कृषि के क्षेत्र में बिहार से, श्री दैतरी नाईक सामाजिक कार्य के लिए उड़ीसा से को सम्मानित किया गया ।

 

Honor Day

 

शौर्य चक्र से सम्मानित श्रीमती सुजाता दहिया पत्नी स्वर्गीय मेजर सतीश दहिया, एलएनके अयूब अली, राइफलमैन उदय सिंह दिल्ली से हैं को सम्मानित किया गया। (ऑपरेशन रक्षक) श्रीमती रेखा देवी पत्नी कांस्टेबल जशवंत सिंह ओपी राकेश हेली मंडी, टोडापुर पटौदी, गुडगाँव, श्रीमती इंदु गोविल पत्नी ब्रिगेडियर वी.के. गोविल, ओपी पराक्रम गुड़गांव, श्रीमती राज बाला पत्नी उप दल चंद ओपी राकेश जम्मू कश्मीर विल खवासपुर, फरुखनगर, श्रीमती सुनीला देवी पत्नी एल. डी अनिल कुमार पालम विहार, गुडगाँव, श्रीमती सुरेश देवी पत्नी नरेश कुमार, गुड़गांव से को सम्मानित किया गया। मेजर के. रेणुका, एएससी, मेजर. यूथिका – एएससी, पारा ओलिंपियन वीरेंदर सिंह- एएससी को सम्मानित किया गया।

सलवान एजुकेशन ट्रस्ट के अध्यक्ष श्री सुशील दत्त सलवान ने दर्शकों को संबोधित करते हुए कहा कि, “आप सभी को सम्मानित कर सलवान एजुकेशन ट्रस्ट स्वयं गौरव की अनुभूति करता है। ये सम्मान दिवस भावाभिव्यक्ति है उन देश के रक्षकों के नाम जो अपना सर्वस्व देश के लिए समर्पित करते हैं। यह ‘सम्मान दिवस’ हमारे बहादुर सैनिकों के अदम्य साहस को सलाम करने का एक माध्यम है। ‘सम्मान दिवस’ हमारे राष्ट्र के प्रहरी द्वारा निःस्वार्थ सेवाओं के प्रति हमारे छात्रों को जागरूक करने व उनके अंदर देशभक्ति, देश के प्रति प्यार और सम्मान की भावना आत्मसात कराने का एक सशक्त माध्यम है। हमारा लक्ष्य माता-पिता के साथ-साथ बच्चों को भविष्य में उनके करियर के रूप में सशस्त्र बल लेने के लिए प्रोत्साहित करना है और डॉक्टर, इंजीनियर, पायलट, प्रशासक के रूप में मेहनती और मजबूत इंसानों को देश की सेवा के लिए तैयार करना है। गर्व की बात है, हम अपने छात्रों को हर साल कारगिल दिवस पर कारगिल भेजते हैं।”

माननीय मुख्य अतिथि, लेफ्टिनेंट जनरल एमएम नरवाने ने कहा कि, “मैं भारतीय सशस्त्र बलों के सम्मान के लिए वास्तव में सलवान स्कूल का आभारी हूँ इस तरीके के कार्यक्रम हमें मजबूत बनाते हैं और हमारी नैतिकता को उच्च रखते हैं। मैं माननीय मुख्य अतिथि, लेफ्टिनेंट जनरल एमएम नरवाना, पीवीएसएम, एवीएसएम, एसएम, वीएसएम, एडीसी, थल सेनाध्यक्षों से बेहद रोमांचित हूं। उन्होंने यह भी उल्लेख किया कि छात्रों को बुद्धिमानी से अपने करियर का चयन करना चाहिए और अपने दिल से देशभक्ति कि भावना अपनाना चाहिए।

पीवीएसएम, एवीएसएम, एसएम, वीएसएम, एडीसी, थल सेनाध्यक्षों को आमंत्रित कर बेहद रोमांचित हूं। “मैं भारतीय सशस्त्र बलों के सम्मान के लिए वास्तव में स्कूल का आभारी हूं। इन जैसी घटनाएं हमें मजबूत बनाती हैं और हमारी नैतिकता को उच्च रखती हैं। “मैं भारतीय सशस्त्र बलों के सम्मान के लिए वास्तव में स्कूल का आभारी हूं। इन जैसी घटनाएं हमें मजबूत बनाती हैं और हमारी नैतिकता को उच्च रखती हैं। मैं माननीय मुख्य अतिथि, लेफ्टिनेंट जनरल एमएम नरवाना, पीवीएसएम, एवीएसएम, एसएम, वीएसएम, एडीसी, थल सेनाध्यक्षों से बेहद रोमांचित हूं। उन्होंने यह भी उल्लेख किया कि छात्रों को बुद्धिमानी से अपने करियर का चयन करना चाहिए और अपने दिल का पालन करना चाहिए।

इस प्रकार के कार्यक्रमों का उद्देश्य बच्चों में अपने देश के दु:खों और खतरों में इसके साथ खड़ा होने, इसके लिए कार्य करने और यदि आवश्यकता पड़े तो इसके लिए अपना जीवन अर्पण करने के लिए तैयार करना रहा है।

सलवान एजुकेशन ट्रस्ट भारतीय सशस्त्र बलों के लिए पिछले 24 वर्षों से सशस्त्र बल आधान केंद्र (ए एफ टी सी) के साथ मिलकर रक्तदान शिविर का आयोजन भी कर रहा है। रक्त दाताओं में सलवान के सिस्टर्स स्कूल के शिक्षक व गुड़गाँव सलवान स्कूल के अभिभावक शामिल हुए जिनमें देश भक्ति की भावना दिखाई दी। सम्मान दिवस के साथ समवर्ती रक्तदान शिविर भी लगाया गया जिसमें इस वर्ष 103 यूनिट रक्तदान किया गया जिसका प्रयोग आपातस्थिति में प्रयोग किया जाएगा। लेफ्टिनेंट जनरल आरएस ग्रेवाल, एवीएसएम, वीएसएम, पीएचएस, डायरेक्टर जनरल मेडिकल आर्मी ने रक्तदान शिविर का उद्घाटन किया। यहाँ से एकत्रित रक्त सशस्त्र बल आधान केंद्र (ए एफ टी सी) को दिया गया।

‘अनेकता में एकता’ भारत की विशेषता को उजागर करते हुए सम्मान दिवस के अवसर पर भारत को प्रतिबिंबित करते हुए सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया, जिसमें देश भक्ति से सराबोर पूर्व, पश्चिम, उत्तर और दक्षिण की विभिन्न नृत्य जैसे संबलपुरी, कठपुतली, भरतनाट्यम, बीहू, मराठी, भांगड़ा आदि की अद्भुत प्रस्तुति की गई। ‘मंगल गाएँ खुशियां मनाएँ’ व स्वागत गान से कार्यक्रम की शुरुआत की गई। सुरक्षा दल में जल, थल और वायु सेना की विभिन्न टुकड़ियों के रूप में विद्यालय के छात्रों ने अद्भुत प्रदर्शन किया। यह संपूर्ण कार्यक्रम देश के वीरों को समर्पित किया गयाजिसने भी देखा उसकी आंखें नम हो गईं।

इसके अलावा इस वर्ष लुप्त होती हुई हस्त कलाओं जैसे उत्तर प्रदेश आजमगढ़ की प्रसिद्ध हैंडलूम सिल्क साड़ी व पोटरी जो विशेष मिट्टी से बनती है। बिहार की प्रसिद्ध मधुबनी पेंटिंग भी सभी के लिए आकर्षण का केंद्र रही।

Loading...