पंजाब में बारिश और ओलों से हुआ फसल का भारी नुक्सान

107

 

लुधियाना, 9 फरवरी 2019 (जसवीर जस्सी) – पूरे उत्तर भारत मे लगातार पिछले दो दिनों से भारी बारिश व गडेमारी हुई। इस भारी बारिश व गडेमारी ने रिकॉर्ड भी तोड़े। पंजाब में सबसे ज्यादा रिकॉर्ड बारिश दर्ज हुई। गुरदासपुर जहाँ 102 एमएम बारिश हुई और लुधियाना दूसरे नंबर पर रहा जहाँ 64.4 एमएम बारिश ने पिछले कई सालों के रिकॉर्ड तोड़ दिए। पर इस भारी बारिश और गडेमारी ने किसानों के माथे पर चिंता की लकीरे खींच दी है। किसानो की फसलों का भारी नुकसान हुआ है।

जमीन पर बिछी हुई फसलें, फसलों में भरा पानी, किसान के माथे पर चिंता की लकीरें, जी हां एक बार फिर किसान कुदरत की मार से परेशान है। पिछले दो दिनों से पड़ी पंजाब के अलग अलग हिस्सों में भारी बारिश व गडेमारी ने सब्जियों व कनक की फसलों को भारी नुकसान पहुंचाया है। जिसको लेकर किसान पंजाब सरकार से मुआवजे की गुहार लगा रहे हैं। खेतो में खड़े किसान गुरप्रीत सिंह को देखीए जोलुधियाना के हमबड़ा गाँव का रहने वाला है, जिसकी भारी बारिश व गडेमारी के कारण कनक की फसल का भारी नुकसान हुआ। किसान सरबजीत खेतो में खड़े हो कर पंजाब सरकार से घुहार लगा रहा है कि उसके फसल के नुकसान का उसे मुआवजा दिया जाए।

भारी बारिश व गडेमारी से सिर्फ सरबजीत की फसल का ही नुकसान नही हुआ, बल्की लुधियाना के भट्टा गाँव के किसान दर्शन सिंह पर भी कुदरत की मार पड़ी है। दर्शन सिंह का कहना है कि पिछले दो दिनों से पड़ी भारी बारिश व गडेमारी ने उसकी 54 किले जमीन पर बिजाई की गई कनक की फसक को भारी पानी व गडेमारी ने बरबाद कर दिया है और वह सरकार से अपील करता है की उसको मुआवजा दिया जाए।