बादल से बोली बदली…फिर दिखी मरूस्थल में हरियाली दूब

309

hariyali teej

 

गुरुग्राम, 2 अगस्त 2019 – हरियाणा प्रदेश वैश्य महासम्मेलन की जिला गुरुग्राम महिला शाखा के तत्वावधान में आयोजित चार दिवसीय हरियाली तीज के पहली रात बृहस्पतिवार को देश के विख्यात कवियों ने हास्य रस की जो छटा बिखेरी, उससे हजारों उपस्थित दर्शक बिन बरसात ही भीग गए। श्रोताओं के रूप में हास्य कवि सम्मेलन का आनंद भाजपा राष्ट्रीय महासचिव हरियाणा प्रभारी व राज्यसभा सांसद डॉ. अनिल जैन की धर्मपत्नी श्रीमती वंदना जैन ने भी उठाया।

 

hariyali teej

 

मंच पर उपस्थित हास्य व्यंग्य के प्रसिद्ध कवि पद्मश्री सुरेंद्र शर्मा, हास्य व्यंग्य के विशिष्ट शैली के कवि-साहित्यकार, धारावाहिक लेखक व पत्रकार डॉ. अशोक चक्रधर, गीतशैली की मधुर कवयित्री डॉ. कीर्ति काले, लॉफ्टर चैलेंज से प्रसिद्ध हास्य कलाकार प्रताप फौजदार, सुरेश अलबेला के अलावा फरीदाबद के कवि दीपक गुप्ता ने हास्य की महफिल में खूब रंग जमाई। कवि मंच का संचालन लेखक व कॉमिक छंदों के कवि व उत्तर प्रदेश में मंत्री का पद घारण करने वाले डॉ. सुनील जोगी बखूबी किया। इस मौके पर विधायक उमेश अग्रवाल ने बुके देकर व कवियों का स्वागत किया।

 

hariyali teej

 

कवि सम्मेलन के दौरान जहां डॉ. सुरेंद्र शर्मा ने पति-पत्नी के संबंधों को लेकर हास्य-परिहास उपस्थित किया वहीं, इस सात जन्मों के रिश्ते की पवित्रता को भारतीय समाज व परिवार की संस्कृति का वाहक बताया, जो दुनिया में अन्य कहीं नहीं मिलता। व्यंग्य व हास्य के विद्वान कवि व लेखक धारावाहिक निर्देशक डॉ. अशोक चक्रधर ने अपनी कविताओं से दर्शकों को झूमने पर मजबूर कर दिया। उनकी कविता ‘बादल से बोली बदली…ये उतावली नहीं भली। दोनों मिलकर मिलकर बरसे खूब…फिर कुछ दिन बाद दिखी मरुस्थल में हरियाली-दूब’ ने हरियाली तीज महोत्सव की प्रासंगिकता का गुणगान किया। उनकी दूसरी रचना ‘क्या इरादा जनाबे आली है, शाम खाली है जाम खाली है और …जबतक साथ मज़ा देती जिंदगानी है’ सून कर श्रोता झूम उठे।

 

hariyali teej

 

मंच पर मौजूद कवयित्री डॉ. कीर्ति काले की गीत ‘बिटिया ससुराल चली’ श्रोताओं को रूला गईं। अन्य हास्य कवियों प्रताप फौजदार और सुरेश अलबेला ने भी अपनी हास्य काव्य पाठ से खूब रंग जमाई। सुनील जोगी ने अपनी रचनाओं के साथ ही बेहतर मंच का संचालन भी किया।