Posted on

रमिंदर आंवला को टिकट देने के पश्चात कांग्रेस द्वारा आयोजित पहली वर्कर मीटिंग का हुआ आयोजन

Raminder Amla

 

जलालाबाद, 28 सितम्बर 2019 – जलालाबाद विधानसभा उपचुनाव के लिए रमिंदर आंवला को टिकट देने के पश्चात कांग्रेस द्वारा आयोजित पहली वर्कर मीटिंग का आयोजन किया गया । इस मीटिंग में कांग्रेस के प्रदेश प्रधान सुनील जाखड़, खेल मंत्री राणा गुरमीत सिंह सोढ़ी, विधायक राजा वडिंग, विधायक दविंदर सिंह घुबाया, पूर्व वन मंत्री हंस राज जोसन, पूर्व सांसद शेर सिंह घुबाया, कांग्रेस प्रदेश स्पोक्सपर्सन राजबख्श कंबोज के अलावा, कांग्रेस जिला प्रधान रंजम कामरा, कांग्रेस प्रत्याशी रमिंदर आंवला के अलावा जलालाबाद से कांग्रेस टिकट के लोकल दावेदार व् अन्य लोकल नेता भले ही एक मंच पर बैठे दिखाई दिए, पर क्या ये नेता कांग्रेस प्रत्याशी को दिल से अपना समर्थन देंगे ये सवालों के घेरे में ही रहेगा, क्योंकि रमिंदर आंवला जलालाबाद से ना होकर पड़ोसी शहर गुरुहरसहाय से हैं।

पिछले विधानसभा चुनावों के दौरान भी कांग्रेस ने लोकल स्तर पर भारी गुटबंदी को देखते हुए लुधियाना से सांसद रवनीत बिट्टू को प्रत्याशी बनाया था, जोकि स्थानीय नेताओं द्वारा अंदर खाते विरोध किये जाने के कारण तीसरे नम्बर पर रहे।

इस सम्बन्ध में पार्टी अध्यक्ष सुनील जाखड़ से बात किये जाने पर उन्होंने कहा कि जब परिवार इकट्ठा होता है तो बात ही कुछ और होती है। उन्होंने कहा कि जो लोग पार्टी से भटक गए हैं उनको वापिस लाने की कोशिश की जायेगी। आगे जाखड़ ने कहा कि सारे लोग ही काबिल थे, परन्तु टिकट तो किसी एक को ही मिलनी थी, ये सारे लोकल नेताओं का बड़पन्न है कि अपनी आकांक्षाओं को भूल कर सभी एक मंच पर विराजमान हैं।

हालांकि जाखड़ के दावे के अनुसार सभी नेता अपने मतभेद व् आकांक्षाओं को भुला कर रमिंदर आंवला को विजयी बनायेंगे, परन्तु जाखड के इस दावे की पोल मंच पर ही खुलती दिखाई दी, जहां पूर्व सांसद शेर सिंह घुबाया लोकसभा चुनावों में सुखबीर सिंह बादल से हुई बुरी हार की भड़ास निकालते दिखे।

शेर सिंह घुबाया अपने सम्बोधन के दौरान पहले जिला कांग्रेस प्रधान रंजम कामरा पर गुटबाजी को बढ़ावा देने का आरोप लगाते दिखे और थोड़ी देर बाद 2 बार विधायक व् मंत्री रहे हंस राज जोसन से उलझते दिखे।